AM और PM का मतलब क्या होता है जानिए हिंदी में

आज का ये आर्टिकल आपके जनरल नॉलेज के लिए बहुत उपयोगी साबित होने वाली है क्योंकि आज आप AM और PM का Full Form के साथ साथ इसके पुरे इतिहास से रूबरू होने वाले हो

आप सबको इतना तो पता ही होगा की पहले जब घडी नहीं हुआ करती थी तब हमारे बूढ़े बुजुर्ग सिर्फ चाँद और सूरज को देखकर समय का अंदाजा लगा लिया करते थे

लेकिन समय बदला और अब हम घडी में समय देखा करते है जिसमे आपको 12:45 Am/Pm ऐसा कुछ लिखा हुआ दिखाई देता है

am pm full form in hindi
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इस सफ़र में समय प्रणाली को लेकर कई बार बदलाव किये गए लेकिन इस बदलाव में AM PM Full Form in Hindi के बारे कई रोचक तथ्य है जो की आपको काफी हैरान करने वाले है चलिए देखते है की ये AM और PM का वास्तविक मतलब क्या है

AM का मतलब क्या है

AM का Full Form “(Ante Meridiem)” है लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी की Ante Meridiem शब्द अंग्रेजी का शब्द नहीं है यह शब्द लेटिन भाषा से लिया गया है जिसका English में मतलब होता है Before Noon जिसका मतलब दोपहर से पहले का समय होता है

अगर हम अपने भारत की बात करें तो AM का हिंदी में मतलब पूर्वाहन होता है जिसका अर्थ है सुबह का समय कहा और माना जाता है

अब हम ये जानते हैं की घडी में AM का सफर कहाँ से कहाँ तक का होता है जी हाँ! AM का भी एक निश्चित समय होता है AM का सफर मध्य रात्रि के 12(AM) बजे से दोपहर 12(AM) बजे तक का होता है

PM का मतलब क्या है

PM का Full Form “(Post Meridien)” होता है जैसा की हमने ऊपर जाना है की Ante Meridien(AM) लेटिन भाषा से लिया गया है ठीक उसी प्रकार Post Meridien(PM) भी एक लेटिन भाषा का शब्द है जिसे English में After Noon के नाम से जाना जाता है जिसका मतलब दोपहर के बाद का समय होता है

जिसको हिंदी में मध्याहन के नाम से जाना जाता है जिसका अर्थ दोपहर के बाद का समय होता है

अब जानते हैं की PM का सफर कहाँ से शुरू होता है और कहाँ पर ख़त्म होता है PM का सफर दोपहर के 12(PM) से लेकर मध्य रात्रि के 12(PM) तक का होता है

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

AM और PM का इतिहास क्या है

आप ने कभी भी AM और PM का इतिहास जानने की कोशिश किया है अगर आप नहीं जानते है की AM और PM का इतिहास क्या है तो आज आप जान जायेंगे

पहले के युग में लोगों द्वारा समय को दो भागों में बांटा गया था पहला दिन और दूसरा रात उस समय लोग दिन और रात का पता लगाने के लिए सूर्य तथा चाँद, तारों का प्रयोग किया जाता था

दोपहर के समय का पता लगाने के लिए सूर्य की दिशा का प्रयोग किया जाता था जिसके आधार पर दिन के समय का अंदाजा लगाया जाता था वहीँ अगर शाम या फिर रात का समय पता लगाने के लिए चाँद और तारों का सहारा लिया जाता था जिसके आधार पर रात के समय का अंदाजा लगाया जाता था

लेकिन जैसे जैसे समय बीतता गया लोगों ने इस अंदाजे को 12 घंटों की प्रणाली में बदल दिया गया अब इसके फिर से दो हिस्से कर दिए गए 12-12 घंटों के हिसाब से कर दिया गया अब इसमें 12 घंटे दिन के और 12 घंटे रात के हिसाब से इसको शुरू किया गया

सबसे पहले 12 घंटे की प्रणाली को मिस्र देश में उपयोग किया जाता था घडी का आविष्कार सबसे पहले 14वीं शताब्दी में हुआ था यूरोप में भी घडी में 12 घंटों के ही हिसाब से इस्तेमाल किया गया लेकिन इसमें सभी अंक रोमन भाषा में अंकित किया गया इन घड़ियों में 12 की प्रणाली डबल बार हुआ करती थी जिसमें AM तथा PM प्रयोग किया गया

15वीं तथा 16वीं शताब्दी में धीरे धीरे पूरे यूरोप में 12 घंटे की प्रणाली को सार्वजनिक रूप से उपयोग में ली जाने लगी लेकिन उस समय 24 घंटों की प्रणाली कुछ विशेष एप्लीकेशन तथा खगोलीय घडियो में ही मिला करती थी

इसे भी पढ़े

आज आपने क्या सिखा

आज आपने कुछ महत्वपूर्ण जानकारी को हासिल किया भले ही आप के लिए ये जानकारी जरुरी नहीं है लेकिन इन सभी के बारे में पता रहना बहुत अच्छी बात है क्योंकि किसी के द्वारा पूछ लिए जाने पर की AM और PM का क्या मतलब होता है अगर आपको इसके बारे में पता होगा तो आप किसी को भी बता सकते हैं इसी के साथ आपकी General Knowledge में भी बहुत फायेदा होता है

उम्मीद करता हूँ को आपको ये जानकारी बहुत पसंद आई होगी आज आपने कुछ नयी जानकारी प्राप्त की है अगर आपने इस आर्टिकल को अंत तक ध्यान से पढ़ा होगा तो आपको यह पोस्ट समझ में आ गया होगा

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे share करना ना भूले जिससे की लोगों को भी ये पता चल सके की जो वह अपनी घडी में समय देखते हैं असल में उसका इतहास और उसका Full Form क्या है इसलिए इस आर्टिकल को Social Media पर जरुर Share करें

अगर आपने हमसे कुछ पूछना है तो निचे Comment करके पूछ सकते है हम आपके सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे

हमारे आर्टिकल को पूरा पढने के लिए आपका शुक्रिया

आपका दिन शुभ हो

मै अजीत सिंह इस ब्लॉग का संस्थापक हूँ मैं इस ब्लॉग पर ऑनलाइन पैसे कैसे कमायें, दैनिक जीवन में काम आने वाले ऐप्स और इन्टरनेट से जुडी जानकारी शेयर करता रहता हूँ

Leave a Comment